क्यों खानी चाहिए मछली, मछली खाने के फायदे

machli(8).jpg
loading...

आपने लोगों को यह कहते सुना होगा कि, बंगाली लोगों का दिमाग अन्य वर्ग के लोगों की अपेक्षा ज़्यादा तेज चलता है या बंगाली समुदाय के लोग मछली खाने की वजह से ज़्यादा बुद्धिमान होते हैं। यह बात कितनी सच है इसके बारे में तो हमें नहीं पता लेकिन, शोधकर्ताओं ने पाया है कि, मछली एक बहुत ही पौष्टिक आहार है जिसमें लगभग सभी प्रकार के ज़रूरी तत्व मौजूद होते हैं। उचित पोषक तत्वों के साथ, प्रोटीन (protein), विटामिन (vitamin) से भरपूर होने के अलावा मछली में ओमेगा 3 फैटी एसिड (omega 3 fatty acid) भी पाया जाता है जो मस्तिष्क के क्रियान्वयन में मदद करता है। बस यही नहीं बल्कि और भी अनेक तरह के गुण मछली में भरे हुये हैं जो आपके भोजन को स्वादिष्ट बनाने के साथ आपके शरीर में ज़रूरी पोषक तत्वों की कमी को भी पूरा करने में मदद करती है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम मछली में पाये जाने वाले उन ज़रूरी तत्वों पर बातचीत करने जा रहे हैं जो हमारे लिए बहुत लाभदायक है। किसी भी प्रकार की मछली चाहे वह मीठे पानी की हो या समुद्र की हो, दोनों के ही अपने अपने खास गुण होते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। इनका सेवन से होने वाले लाभ लंबे समय तक शरीर में बने रहते हैं और सेहतमंद रखते हैं।

मछली बंगालियों के लिए खास व्यंजनों में से एक है इसीलिए उन्हें अपनी बुद्धिजीविता की वजह से खास माना जाता है। बंगाली समुदाय के लोग बुद्धिमान इसीलिए होते हैं क्योंकि वे मछली का भरपूर मात्रा में सेवन करते हैं जिसकी वजह से उनके शरीर और दिमाग को पर्याप्त पोषण मिलता है। मछली में मौजूद पोषक तत्व हमारे शारीरिक और मानसिक विकास के साथ उनकी क्षमता को बढ़ाने में काफी मददगार होते हैं। इन सब के अलावा मछली खाने के और भी कई फायदे हैं जो इस प्रकार हैं,

मछली खाने के मुख्य फायदे हिन्दी में (Health benefits of eating fish)

पोषण की कमी को पूरा करता है मछली का सेवन (Replenishment of deficient nutrient)

हो सकता है कि आपके रोजाना लिए जाने वाले आहार में किसी तरह से पर्याप्त पोषक तत्वों की कमी रह जाए, ऐसा हम में से कई लोगों के साथ होता है कि, हम ये समझ नहीं पाते कि हमारे आहार में किन चीजों की कमी की वजह से कोई खास समस्या पैदा हो रही है। नियमित रूप से मछली से सेवन से इस तरह की छोटी छोटी समस्याएँ पूरी की जा सकती है। मछली में मौजूद अनेक तरह के पोषक तत्व आपके रोज के खाने में हो रही पोषण की कमी को पूरा करने में शरीर की मदद करते हैंम क्योंकि इनमें बहुत से मिनरल्स, प्रोटीन और विटामिन्स उपस्थित होते हैं इनके अलावा अनेक तरह की मछलियाँ अपने खास गुणों या पोषक तत्वों की वजह से खास मानी जाती है आप अपनी पसंद के अनुसार इनमें से बेहतर मछली का चुनाव विभिन्न व्यंजनों के लिए कर सकते हैं। कुछ समुद्री मछलियों जैसे बांगड़ा (sardine), सालमन (salmon) और पेड़वे (mackerel) आदि में ओमेगा 3 और ओमेगा 6 फैटी एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

मछली खाना DHA की पूर्ति में सहायक (Bringing DHA in body)

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि, दिमागी विकास में DHA (docosahexaenoic acid) घटक का विशेष महत्व होता है। यही कारण है कि, बच्चों को दिये जाने वाले खास आहार में DHA का प्रयोग होता है। मछली में दिमागी विकास के लिए ज़रूरी ओमेगा 3 और ओमेगा 6 फैटी एसिड (omega 6 fatty acid) भी उपयुक्त मात्रा में होते हैं जो मस्तिष्क के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं यहाँ तक कि माँ की सेहत के विकास में भी यह बहुत ज़रूरी तत्व है इसीलिए प्रसव (delivery) के पहले और बाद भी माँ के स्वास्थ्य को बेहतर करने के लिए भी नियमित रूप से मछली का सेवन करना चाहिए। इस बात पर विशेष ध्यान देना ज़रूरी है कि कुछ मछलियों में मर्करी (mercury) या पारा उच्च मात्रा में मौजूद होता है जो ब्रेन (brain) को क्षति पहुंचा सकता है, ऐसी मछलियों के सेवन से बचना चाहिए जिनमें पारे की अधिक मात्रा होती है।

मछली खाने के लाभ – अवसाद के उपचार में सहायक (Treating depression)

आज के समय में लोग अपने 10 साल पहले के जीवन की अपेक्षा कम खुश रहते हैं। आज की जिंदगी इतनी भाग दौड़ भरी हो गयी है कि अपने और अपने परिवार को हम समय कम दे पाते हैं साथ ही काम का बढ़ता दबाव हमारे तनाव को और भी बढ़ा देता है। लगातार में तनाव (stress) की स्थिति अवसाद का कारण बन जाती है। अगर आप नियमित रूप से मछली का भोजन के साथ सेवन करते हैं तो यह उपाय आपको अवसाद और तनाव से बचाने में मदद करता है। मछली में उपस्थित ओमेगा3 इस तनाव को कम करता है जिससे आपका मन भी प्रसन्न रहता है और आप आसानी से तनाव पर काबू पा सकते हैं। यह तनाव और अवसाद (depression) शरीर और मन पर बहुत बुरा प्रभाव डालता है इसके लिए आपको नियमित रूप से समुद्री मछली (sea fish) को अपने आहार में शामिल करना चाहिए।

loading...

मछली खाने के लाभ, स्वप्रतिरक्षित रोगों के खतरे को कम करता है (Fish benefits – Reduced risk of auto immune disease)

हमारे शरीर में कई तरह की समस्याएँ भीतरी रूप से पैदा हो सकती हैं जिन पर कई बार हमारा ध्यान नहीं जाता। स्वप्रतिरक्षित रोग ऐसी ही एक समस्या है जिसमें हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली हमारे की शरीर के उत्तकों या अन्य पदार्थों को गलती से हानिकारक समझकर उन्हें नष्ट करने का प्रयास करती है। इस तरह के डिसऑर्डर (disorder) का एक उदाहरण डायबिटीज़ है। इसमें उन कोशिकाओं पर हमला हो जाता है जो पेनक्रियाज़ (panecres) में इंसुलिन का निर्माण करते हैं। कुछ स्टडीज़ में इस बात का दावा किया गया है कि, ओमेगा 3 फैटी एसिड या मछली का तेल इन स्वप्रतिरक्षित रोगों को रोकने का प्रयास करते हैं।

मछली खाने से फायदा, दृष्टि क्षमता को बढ़ाने में मछली के तेल के फायदे (Fish for kids – Eating Fish for Improving vision)

पहले के समय में लोग बिना चश्मे के भी 70 साल की उम्र में भी साफ देख पाते थे। पर अगर आज अप ध्यान दें तो पाएंगे कि 7 से 8 साल की उम्र के बच्चों में भी नज़र की परेशानी एक आम बात हो गयी है, छोटी सी उम्र में ही आज के बच्चों को मोटे चश्मे चढ़ जाते हैं, इसका मुख्य कारण पर्याप्त पोषक तत्वों का न मिल पाना है। भोजन में  कुछ पोषण की कमी की वजह से आँखों में भी कई तरह की समस्या पैदा हो जाती है। भोजन में ओमेगा 3 की कमी की वजह से भी दृष्टि दोष या देखने में परेशानी आदि का सामना करना पड़ता है। ओमेगा 3 की पर्याप्त मात्रा प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से मछली का सेवन करना फायदेमंद होता है। खासकर माता पिता को मछली से होने वाले लाभ की जानकारी के बारे में सतर्क रहना चाहिए और अपने बच्चों को रोज मछली खाने के लिए प्रेरित करना चाहिए।

हार्ट अटैक के खतरे को कम करता है मछली का सेवन (Lower risk of heart attack – Fish benefits for heart)

अगर आपके परिवार में पहले से ही किसी को हृदय रोगों की समस्या रही है तो आपको भी सावधान हो जाना चाहिए क्योंकि ये वंशानुगत होते हैं और पीढ़ी दर पीढ़ी स्थानांतरित होते रहते हैं। मछली के सेवन से कई तरह की दिल के रोगों से बचा जा सकता है। डॉक्टर्स के मुताबिक मछली में ऐसे तत्व पाये जाते हैं जो दिल को लंबे समय तक रोगों से सुरक्षित रखने में मदद करते हैं। मछली के लाभ लेने के लिए आपको नियमित रूप से अपने भोजन में मछली को शामिल करना चाहिए।

मछली खाने के फायदे : भूलने की बिमारी को दूर करने में मददगार (Fish benefits for health, Prevention of Alzheimer’s)

ऊपर दी हुई जानकारियों में मछली के कई फायदे बताए जा चुके हैं, मछली दिमाग को तेज करने में सहायक होती है साथ ही यह याददाश्त से जुड़ी परेशानियों को भी कम करने में मदद करती है। अगर आपके परिवार में किसी को भूलने की बिमारी है तो उसे नियमित रूप से मछली का सेवन कराएं। मछली से याददाश्त कि समस्या को कम करने में लाभ मिलता है। शोधकर्ता यह मानते हैं कि उबली या बेक की हुई मछली दिमाग के लिए ज़्यादा बेहतर होती है।

मछली खाने से लाभ, मछली से दूर करें बालों की समस्या (Fish benefits for hairs, Improves hair with fish)

आज के समय में अधिकांश लोग बालों से जुड़ी समस्या से जूझ रहे हैं। बालों का गिरना और टूटते बाल आजकल एक आम समस्या बन चुके हैं। मछली को रोज अपने आहार में शामिल कर के बालों की सेहत को बेहतर किया जा सकता है। अगर आपके पास मछली है तो आप इसका सेवन कर अपने बालों की सेहत को मजबूती प्रदान कर सकते हैं। इसके लिए आपको किसी भी तरह के महंगे शैंपू या कंडीशनर की ज़रूरत भी नहीं पड़ेगी। भोजन में फ्राई फिश या तली हुई मछली के सेवन से बचें, इसमें पोषक तत्वों की कमी होती है, इसके जगह आपको उबली या बेक्ड फिश का इस्तेमाल करना चाहिए। मछली में ओमेगा 3 की भरपूर मात्रा पाई जाती है जो बालों और त्वचा के लिए बहुत ज़्यादा फायदेमंद होते हैं।

मछली के गुण, मछली से करें त्वचा की देखभाल (Fish benefits for Skin health, Fish benefits in Hindi)

महिलाओं में 35 की उम्र के बाद महीन रेखाएँ और झुर्रियां आदि दिखाई देने लगती हैं। त्वचा में रूखापन, प्रदूषण और तनाव आदि की वजह से त्वचा की सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ता है। रोजाना मछली के सेवन से आप अपनी त्वचा की सेहत को बेहतर बना सकती हैं। रोज़ मछली खाने से त्वचा से कई तरह की समस्याएँ दूर हो जाती हैं। आइमें मौजूद ओमेगा 3 ऑइल त्वचा पर असरकारक होता है त्वचा को उम्र के साथ बढ्ने वाली परेशानियों से भी बचाता है। उम्र बढ्ने की वजह से सी हहरे पर जो महीन लाइन और झुर्रियां आदि दिखने लगती हैं, नियमित रूप से मछली खाने से यह समस्या जल्दी ही दूर हो जाती है। मछली सम्पूर्ण सेहत के लिए एक बहुत ही लाभकारी आहार है जिसका सेवन नियमित रूप से किया जाना चाहिए। मछली में मौजूद ओमेगा 3 तत्व त्वचा की सेहत पर प्रभाव डालता है और त्वचा को इन सभी समस्याओं से लंबे समय तक बचाए रखता है।

Source: HindiTips

Most Interesting, Must Click to Read:
loading...
error: Content is protected !!